दिग्विजय सिंह को भगवा के प्रति इतनी नफरत क्यों ?

Bakaitii special story in digvijay singh

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह शायद ही कोई मौका हो जब वो बीजेपी पर तंज न कसते हो। कांग्रेस नेता को भगवा भी रास नहीं आता, इसीलिए एक समय उन्होंने भगवा को लेकर यह तक कहा था कि, भगवा वस्त्र पहनने वाले मंदिरों में बलात्कार कर रहे हैं।

साल 2019 में भोपाल में साधुओं को संबोधित करने के लिए एक जनसभा का आयोजन किया गया था, और इसी जनसभा में दिग्विजय सिंह को बोलना था। किसी को क्या पता था कि इस जनसभा में वो कुछ ऐसा बोल देंगे जिसकी आलोचना पूरी पार्टी को सहना होगा। उन्होंने कहा कि, भगवा वस्त्र पहनकर बलात्कार किया जा रहा है और मंदिरों में भी बलात्कार हो रहे हैं। हमारे सनातन धर्म को जिन्होंने बदनाम किया है, उन्हें भगवान भी माफ नहीं करेगा। इसके आगे दिग्विजय सिंह ने कहा कि, व्यक्ति अपना परिवार छोड़कर साधु बनता है, धर्मा का आचरण करते हुए आध्यात्म की ओर मुड़ता है। लेकिन आज लोग भगवा वस्त्र पहनकर चूरन बेच रहे हैं। भगवा वस्‍त्र पहनकर बलात्‍कार हो रहे हैं, मंदिरों में बलात्‍कार हो रहे हैं। क्‍या यह हमारा धर्म है? हमारे सनातन धर्म को जिन्‍होंने बदनाम किया है, उन्‍हें भगवान भी माफ नहीं करेगा।

दिग्विजय अकेले नहीं हैं जिन्हें भगवे से परेशानी है, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और कांग्रेस के कई और भी नेता हैं जिन्हे भगवे से दिक्कत है। राहुल गांधी तो एक तरफ भगवे का विरोध करते हैं लेकिन वहीं दूसरी तरफ वो मंदीरों में जाकर अपने हिंदुत्व का परिचय देते हैं। राहुल कभी कहते हैं कि जो मंदिर जाता है वो लड़की छेड़ता है। लेकिन गुजरात विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उनके हिंदुत्व का परिचय देते हुए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा था कि राहुल गांधी तो जनेऊधारी हिंदू हैं।

वैसे दिग्विजय सिंह का विवादों से गहरा नाता रहा है। एक समय उन्होंने कहा था कि, भाजपा और बजरंग दल को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से फंडिंग मिलती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मुसलमानों से ज्यादा गैर-मुसलमान आईएसआई के लिए जासूसी कर रहे हैं।

पुलवामा हमले पर भी जहां एक तरफ पूरा देश शोक में डूबा हुआ था तो वहीं, ऐसे मौके पर भी दिग्विजय जहर उगलने से बाज नहीं आए। इस हमले को उन्होंने दुर्घटना बताया था। ‘पुलवामा दुर्घटना के बाद हमारी वायुसेना द्वारा की गई एयर स्ट्राइक को लेकर कुछ विदेशी मीडिया में संदेह पैदा किया जा रहा है, जिससे हमारी भारत सरकार की विश्वसनीयता पर प्रश्न चिन्ह लग रहा है।

शायद दिग्विजय सिंह देश के पहले और इकलौते ऐसे नेता होंगे जिन्हें आतंकियों पर मोह आता है, आतंकियों के प्रति हमदर्दी है। क्योंकि भारत में कई हमले करवाने में अहम भूमिका निभाने वाले ओसामा बिन लादेन और हाफिज सईद जैसे आतंकवादियों को दिग्विजय जी लगा कर बुलाते हैं।