चुनाव के बाद जांच, जेल में होगा चौकीदार- राहुल गांधी

चुनाव के बाद जांच, जेल में होगा चौकीदार- राहुल गांधी 1

नागपुर
2019 के लोकसभा चुनाव में ‘चौकीदार’ पर चर्चा जैसे-जैसे तेजी पकड़ रही है, सरकार और विपक्ष अपने तरीके से उसका इस्तेमाल भी कर रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी को एक बार फिर निशाने पर लिया। उन्होंने ‘चौकीदार चोर है’ के नारे को दोहराते हुए दावा किया है कि चुनाव के बाद ‘चोरी’ की जांच होगी और ‘चौकीदार’ जेल में होगा।

राहुल नागपुर में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा, ‘किसी मजदूर के घर के बाहर चौकीदार नहीं होता, लेकिन अनिल अंबानी के घर के बाहर हजारों चौकीदार हैं। चोरी के पैसे की चौकीदारी करने के लिए।’ उन्होंने आगे कहा, ‘कोई छोटी-मोटी चोरी नहीं हुई है। मैं आपको बता रहा हूं कि चुनाव के बाद जांच होगी और जेल में दूसरा चौकीदार होगा। जेल के बाहर दूसरे चौकीदार होते हैं।’

राहुल ने इस दौरान पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को राफेल सौदे में भ्रष्टाचार होने की बात पता होने का दावा भी किया। उन्होंने एक रैली में आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लड़ाकू विमान खरीद सौदे में बदलाव किया, जिसकी वजह से इसके दाम बढ़ गए। उन्होंने कहा, ‘रक्षा मंत्रालय का दस्तावेज बताता है कि नरेंद्र मोदी ने मूल सौदे में बदलाव किया और एक विमान 1600 करोड़ रुपये में खरीदा।’

राफेल मुद्दे पर अनिल अंबानी को निशाना बनाते हुए गांधी ने कहा कि रक्षा निर्माण में उद्योगपति की विशेषज्ञता नहीं है, उनका व्यवसाय विफल हो गया और उनके पास पैसे नहीं है, फिर भी उन्हें ‘सबसे बड़ा’ रक्षा ठेका मिला। उन्होंने कहा कि महत्वाकांक्षी ‘न्याय’ योजना को विशेषज्ञों से विचार-विमर्श करने के बाद ही अंतिम रूप दिया गया।

राहुल ने पीएम नरेंद्र मोदी को ‘उम्रदराज’ बताते हुए कहा कि वह जल्दबाजी में रहते हैं। उन्होंने कहा, ‘मैं आपके साथ मजबूत रिश्ता कायम करना चाहता हूं, जो लंबे समय तक चले। मैं झूठ नहीं बोलूंगा। मोदी की उम्र हो गई है और वह जल्दबाजी में हैं। इसीलिए वह झूठ बोल रहे हैं।’ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी काम करती है, जबकि बीजेपी ‘केवल खोखले वादे करती है।’

कांग्रेस ने न्यूनतम आय योजना का चुनावी वादा किया है और इस बारे में राहुल ने कहा कि सारे अर्थशास्त्रियों ने उन्हें बताया है कि गरीबों के बैंक खातों में हर महीने 6000 रुपये तक जमा करने की स्कीम देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाए बिना लागू की जा सकती है। राहुल ने कहा, ‘न्याय स्कीम गरीबी पर कांग्रेस की सर्जिकल स्ट्राइक है। हर नागरिक को कम से कम 12,000 रुपये महीने मिलने ही चाहिए।’ उन्होंने कहा कि कांग्रेस सत्ता में आई तो उसकी सरकार इस स्कीम के लिए पर्याप्त रकम देगी।

राहुल ने कहा कि इस बार के चुनाव में करप्शन, बेरोजगारी और किसानों की समस्या अहम मुद्दे हैं और मोदी को बताना चाहिए कि इनसे निपटने के लिए पिछले पांच वर्षों में उन्होंने क्या किया। राहुल ने यह चुनौती दोहराई कि करप्शन, इकॉनमी और नैशनल सिक्यॉरिटी पर मोदी उनसे 15 मिनट की खुली बहस करें। केंद्र सरकार की गलत नीतियों की वजह से देश में बेरोजगारी 45 सालों में सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच गई है।