2019 का चुनाव अमेठी के लिए आजादी का चुनाव है- स्मृति इरानी

2019 का चुनाव अमेठी के लिए आजादी का चुनाव है- स्मृति इरानी 1

अमेठी

यूपी के अमेठी में केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी की नेता स्मृति इरानी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को लगातार चुनौती दे रहे हैं। शुक्रवार को अमेठी में आयोजित विजय संकल्प ओबीसी सम्मेलन के दौरान स्मृति इरानी ने कहा कि 2019 का चुनाव आजादी का चुनाव है और लोग लापता सांसद के चंगुल से आजाद होंगे।

इससे पहले स्मृति इरानी ने राहुल गांधी के केरल की वायनाड सीट से लड़ने के बारे में कहा था, ’15 साल उन्होंने अमेठी के लोगों की मदद से पावर का मजा लिया और अब वह कहीं और से नामांकन करने जा रहे हैं। यह अमेठी के लोगों का अपमान है और इसे यहां के लोग सहन नहीं करेंगे।’ स्मृति इरानी यहीं नहीं रुकीं। उन्होंने कहा कि राहुल ने अमेठी में कोई विकास कार्य नहीं किया है और वायनाड के लोगों को वहां जाकर यह देखना चाहिए।
उन्होंने कहा कि वायनाड की जनता को राहुल से सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने राहुल को 15 साल लापता रहने वाला सांसद भी कहा जो अमेठी की जनता के कंधे पर चढ़कर सांसद बना और अब उन्हें छलकर, धोखा देकर दूसरी जगह जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि चुनावी ‘रीजन’ और ‘सीजन’ देख जनेऊ धारण करने वाले राहुल गांधी देश के टुकड़े करने वाले गैंग के साथ अपनी जीत सुनिश्चित करना चाहते हैं।

अगुस्टा वेस्टलैंड मामले में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम सामने आने का आरोप लगाते हुए स्मृति इरानी ने कहा कि इसपर उन्हें जवाब देना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘अगुस्टा वेस्टलैंड में राहुल गांधी का नाम सामने आया है और टूजी स्पेक्ट्रम समेत कई घोटाले करने वालों से भी उनके रिश्ते की जानकारी पता चली है। अब कांग्रेस अध्यक्ष को जनता को बताना होगा कि हर वह व्यक्ति, जिसने देश को लूटा है, उससे उनकी भागीदारी बाकायदा लिखा-पढ़ी में क्यों है।’

अमेठी दौरे के पर आईं स्मृति ने जायस स्थित मलिक मोहम्मद जायसी शोध संस्थान में आयोजित बीजेपी के पिछडा वर्ग सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘कांग्रेस ने सत्ता के लिए ऐसे लोगों से हाथ मिलाया, जो देश का बंटवारा चाहते हैं। कांग्रेस का मुस्लिम लीग से हाथ मिलाया जाना देश के प्रत्येक नागरिक का अपमान है।’

स्मृति इरानी ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनी तो राहुल को रामलला याद आ गए। केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनी तो विदेश घूमने वालों को गंगा याद आने लगी। अमेठी के लापता सांसद को कभी भी अमेठी की जनता का सुख-दुख याद नहीं रहा। नामदारों ने पिछले 55 सालों से अमेठी को केवल छला है। अमेठी के लोगों को बुनियादी सुविधाएं भी नही मिल सकी हैं।’