कांग्रेस ने जारी किया घोषणापत्र, न्यूनतम आय योजना समेत किए 5 बड़े वादे

कांग्रेस ने जारी किया घोषणापत्र, न्यूनतम आय योजना समेत किए 5 बड़े वादे 1

नई दिल्ली

कांग्रेस ने आम चुनाव 2019 के लिए अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। कांग्रेस ने सत्ता में आने पर 20 फीसदी गरीबों के लिए ‘न्यूनतम आय योजना’ शुरू करने का वादा किया है। इसके तहत गरीब तबके के लोगों को प्रति माह 6,000 रुपये दिए जाएंगे। इसके तहत गरीबों की न्यूनतम मासिक आय 12,000 रुपये सुनिश्चित करने का वादा किया गया है। पार्टी ने अपने इस घोषणापत्र को ‘जन आवाज’ नाम दिया है। कांग्रेस ने नीति आयोग को खत्म कर एक बार फिर से योजना आयोग की बहाली करने की बात कही है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हमने अपने चुनाव चिन्ह हाथ की थीम को ध्यान में रखते हुए 5 बड़े वादों को इसमें शामिल किया है।

कांग्रेस के घोषणापत्र में पांच बड़े वादे-

ॉ1. हर साल गरीब तबके के 20 फीसदी लोगों के खाते में 72,000 रुपये डाले जाएंगे।

2. 22 लाख सरकारी नौकरियों का वादा कांग्रेस ने किया है। 10 लाख लोगों को ग्राम पंचायतों में रोजगार देने का वादा किया गया है। 3 साल तक युवाओं को कारोबार करने के लिए किसी से भी अनुमति लेने की जरूरत नहीं है।

3. मनरेगा में काम के दिनों को 100 से बढ़ाकर 150 करने का ऐलान।

4. किसानों के लिए अलग से बजट जारी करने का ऐलान। किसानों का कर्ज न चुका पाना अपराध के दायरे से बाहर होगा।

5. जीडीपी का 6 फीसदी हिस्सा शिक्षा पर खर्च किया जाएगा। यूनिवर्सिटीज, आईआईटी, आईआईएम समेत टॉप संस्थानों तक गरीबों की पहुंच को आसान करने का वादा।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हम हर दिन प्रधानमंत्री के तमाम झूठ सुनते हैं। इसलिए हमारा कहना है कि हम अपने वादे को निभाएंगे। राहुल गांधी ने कहा कि इस मेनिफेस्टो को एक साल की कड़ी मेहनत से लोगों की राय लेकर तैयार किया गया है।


पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के इस मेनिफेस्टो की चर्चा देश भर में होगी। गरीबों के कल्याण को इसमें जगह दी गई है। यह आगे बढ़ने वाला घोषणा पत्र है, जिसमें गरीबों, छात्रों, किसानों और अल्पसंख्यकों समेत समाज के सभी वर्गों के कल्याण का ध्यान रखा गया है। हम लोगों को यह बताने जा रहे हैं कि बीते 5 सालों के बीजेपी राज में कैसे किसानों और गरीबों के हितों की अनदेखी हुई है और हम कैसे देश को आगे ले जाने वाले हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सोनिया गांधी और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने यह मेनिफेस्टो जारी किया। इस दौरान कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी, पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम, पूर्व डिफेंस मिनिस्टर एके. एंटनी, प्रवक्ता रणदीप सुरेजवाला, आरपीएन सिंह, दिल्ली की प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत समेत तमाम दिग्गज नेता मौजूद थे।

कांग्रेस पार्टी का यह घोषणा पत्र पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के नेतृत्व वाली कमिटी ने तीन महीने में तैयार किया है। इस मेनिफेस्टो को तैयार करने में कांग्रेस ने अमर्त्य सेन सरीखे दिग्गज अर्थशास्त्रियों से सलाह ली थी। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक गरीबों को प्रति महीने 6,000 रुपये दिए जाने की स्कीम भी अमर्त्य सेन की सलाह पर ही जारी करने की बात कही गई है।

राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि राहुल गांधी ने टीमों को भेजकर देश के तमाम हिस्सों में गरीबों, महिलाओं, बुजुर्गों, कर्मचारियों समेत सभी वर्गों की राय ली और फिर मेनिफेस्टो तैयार किया। उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने हर साल गरीबों को 6,000 रुपये देने का ऐलान किया है, जबकि कांग्रेस ने हर महीने इतनी रकम देने की बात कही है। इससे कांग्रेस और बीजेपी के बीच का अंतर पता चलता है।