बनिहाल में था पुलवामा जैसे अटैक का प्लान

बनिहाल में था पुलवामा जैसे अटैक का प्लान 1

बनिहाल

जम्मू-कश्मीर में बनिहाल में सीआरपीएफ के काफिले के पास हुए ब्लास्ट के पीछे एक बड़ी आतंकी साजिश का खुलासा हुआ है। इस बार भी आतंकियों ने सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर पुलवामा अटैक की तर्ज पर हमला करने की कोशिश की थी। इस हमले के लिए हैंडलर्स ने एक युवक को कार के साथ भेजा था, जिसने बनिहाल में सीआरपीएफ काफिले के पास ब्लास्ट किया था। इस वारदात के मुख्य आरोपी को पुलिस ने घटना के 36 घंटे के भीतर हिरासत में लिया है और इस संदिग्ध आतंकी ने इस मामले को लेकर कई बड़े खुलासे किए हैं।

बनिहाल में शनिवार को हुए ब्लास्ट के बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करते हुए बताया है कि इस बार भी आतंकियों ने पुलवामा हमले की तर्ज पर सीआरपीएफ जवानों के काफिले को निशाना बनाने की साजिश रची थी। डीजीपी दिलबाग सिंह के अनुसार, जिस कार में ब्लास्ट हुआ था उसके ड्राइवर ने गिरफ्तार होने के बाद अपने टेरर कनेक्शन की बात स्वीकार की है। पुलिस की शुरुआती पूछताछ में ही आरोपी ने यह कहा है कि हैंडलर्स ने फोन पर उसे काफिले के पास एक बटन दबाने के निर्देश दिए थे और वह अकेले ही कार चला रहा था। आरोपी ने यह भी बताया कि वह कार में ब्लास्ट करने के बाद वहां से भाग गया था और हैंडलर्स ने उसे काफिले को उड़ाने के ही निर्देश दिए थे।

शनिवार को बनिहाल के पास हुए संदिग्ध ब्लास्ट में सीआरपीएफ की एक गाड़ी क्षतिग्रस्त हुई थी। इस घटना के बाद ही पुलिस ने इसके आतंकी कनेक्शन की पड़ताल शुरू की थी। इसके बाद पुलिस ने शोपियां निवासी एक संदिग्ध शख्स को गिरफ्तार किया। डीजीपी ने बताया कि शनिवार 30 मार्च को सुबह सवा दस बजे विस्फोटकों से लदी एक सैंट्रो कार श्रीनगर से जम्मू की ओर जा रही थी। इस कार में बनिहाल के पास एक ब्लास्ट हुआ था, जिसके कारण कुछ जवानों को मामूली चोट आई थी। हालांकि सीआरपीएफ की एक बस को भारी नुकसान हुआ था।

सूत्रों के मुताबिक, बनिहाल में हुई घटना के बाद शुरुआती जांच में ही पुलिस और सीआरपीएफ को मौके से भारी मात्रा में विस्फोटक, आईईडी और एलपीजी सिलिंडर बरामद हुए थे। इसके अलावा पुलिस को कुछ अन्य सुराग भी मिले थे, जिसके आधार पर बीते दो दिन से जांच की जा रही थी।

वारदात के बाद से ही इसे पुलवामा हमले जैसी किसी आतंकी साजिश की तरह ही देखा जा रहा था और एजेंसियों के अधिकारी इसकी गहन जांच कर रहे थे। इसी दौरान सोमवार को पुलिस ने आरोपी शख्स को गिरफ्तार किया। इस शख्स ने शुरुआती पूछताछ में पहले पुलिस और फिर मीडिया को सारी साजिश से अवगत कराया। कहा जा रहा है कि गिरफ्तार शख्स से एजेंसियों को और महत्वपूर्ण सूचनाएं मिल सकती हैं, ऐसे में अधिकारी उससे आगे भी पूछताछ कर सकते हैं।