आज के बकैत राम गोपाल यादव और सैम पित्रोदा जाँच की आंच

आज के बकैत राम गोपाल यादव और सैम पित्रोदा जाँच की आंच 1

त भाई लोग फाइनली चुनाव के मौसम आ गया, ये असली टाइम है बकैतों का बहार आने का. जितने बकैती होगी न भाई गजब, कसम पैदा करने वाले की इनको गजब की बकती पावर के साथ दुनिया भगवन ने भेजा है. तो चला आज के दुइ बकैत के बारे में बात होइ जाये.

आज के बकैत नंबर एक राम गोपाल यादव जो आगरा यूनिवर्सिटी के पीएचडी हैं भाई लोग क्या पीएचडी. इनकी बकती है की अगर सरकार बदली तो ई जाँच करहिये की पुलवामा में क्या साजिश था. भाई समझ से बाहर की बात है की ये का जाँच करीहे. इस पीएचडी से भगवान् बचाये. ये पीएचडी हैं जनता हाहाहाहाहाहाहा पीएचडी करवाने वाली. जबाब तो मिलेगा जरूर मिलेगा और मजे की बात की जल्दी मिलेगा. मेरे ऐसा लिखने का मतलब भाई पीएचडी वाले लोग ये मत निकाल लेना की मेरी जाती क्या है मेरा धर्म क्या है. बस इतना कहूंगा की ऐसी पीएचडी नहीं चहिये.

बकैत नो.२ पित्रोदा इनके बारे में बहुत जानकारी नहीं है विकिपीडिआ देख रहा हूं, बुरा न मानना थोड़ा वक़्त दीजिये……….अरे बाप रे ई तो बहुत बड़ा आदमी हैं, पता नहीं का का पढ़े हैं. इतना जानकारी तो हमको नहीं है क्यों की जनता इनकी जइसन पीएचडी नहीं है. हम करते है करवाते हैं अगर हाथ लग गए तो पता नहीं कितने साल तक पीएचडी होगा. इ पढ़े लिखे लोग के सबूत चाहिए और जांच चाहिए अरे समय बदल गया जनता को अज्ञानी समझने वाले पागल घमडी लोग दिमाग ठिकाने लगाना आ गया है जनता को. और कसम से आप से ज्यादा पड़े लिखे और समझदार लोग जनता में हैं इनकी पड़ेगी तो सब भूल जाओ गो भाई.
ये लेखक के अपने विचार है इसका मतलब ये नहीं की लेखक वोटर नहीं है ….