‘पाकिस्तान चाहता है चौकीदार सत्ता से हटे और महामिलावट का गठबंधन सत्ता में आ जाए’-पीएम मोदी

जम्मू
2019 के लोकसभा चुनाव के लिए निकले पीएम नरेंद्र मोदी गुरुवार को जम्मू के अखनूर में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। चुनावी रैलियों के क्रम में पहले दिन जम्मू पहुंचे पीएम ने कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि 2019 के चुनाव के लिए जब मैं सारे देश से आशीर्वाद मांगने निकला हूं तब मैं पहले दिन जम्मू पहुंचा हूं। जम्मू श्रम और श्रद्धा की नगरी है और यहां के लोग एक प्रकार से मां भारती के वे रक्षक हैं जो दुश्मन के गोलों और साजिशों का सबसे पहले सामना कर रहे हैं। आप सभी के बुलंद हौसले को मैं आदरपूर्वक नमन करता हूं। मोदी ने कहा कि पाकिस्तान में बैठे लोग चाहते हैं कि चौकीदार सत्ता से हटे और महामिलावट गठबंधन सरकार में आ जाए।

आने वाले 11 अप्रैल को आप जब ईवीएम का बटन कमल के फूल के सामने दबाएंगे तो उसकी आवाज देश के भीतर जमे आतंकियों में खलबली मचाएगी। बात यहां अटकेगी नहीं और वेट की गूंज सीमा पार भी सुनाई देगी। सीमापार आतंक की फैक्ट्री चलाने वाले आज खौफ में हैं और डर के साए में जी रहे हैं, ऐसा पहली बार हुआ है जब भारत को दहलाने के लिए आने वाले आतंकी भी सौ बार सोच रहे हैं।

मैं हैरान हूं कि देश के दुश्मन को सबक सिखाने के अभियान के बीच कांग्रेस और उसके साथियों को क्या हो गया है। समझ नहीं आता कि क्या यह सरदार पटेल की वही कांग्रेस है, जिसने देश की एकता के लिए सबकुछ लगा दिया था। मेरी आत्मा तो यही कहती है कि यह वह कांग्रेस नहीं है। मोदी विरोध की जिद में कांग्रेस को देशहित दिखना बंद हो गया है और देश से इतर कांग्रेस कुछ अलग बात कर रही है। बालाकोट में भारत ने जो प्रहार किया उसके बाद एक के बाद एक कांग्रेस नेता ऐसी बात कर रहे हैं जो भारत के पक्ष में नहीं है। इतना ही नहीं जो सालों तक जम्मू-कश्मीर में राज करते रहे वे भी ऐसी बात कर रहे हैं जो भारत के गांव का कोई अनपढ़ भी नहीं स्वीकार कर सकता है। क्या आपको कांग्रेस, पीडीपी और नैशनल कॉन्फ्रेंस की भाषा मंजूर है?

किसी भी देशवासी को वह बात पसंद नहीं है जिसके कहने से पाकिस्तान में तालियां बजती हों। अगर आप पाकिस्तान की टीवी देखें तो पता चलता है कि पाकिस्तान में दुआ मांगी जा रही है कि किसी तरह चौकीदार सत्ता से हटे और महामिलावट वाला गठबंधन सत्ता में आ जाए। कांग्रेस के नामदार के गुरू जो कांग्रेस का नीति निर्धारण करते हैं वे बिना किसी संकोच आतंकियों को टीवी पर क्लीन चिट दे रहे हैं। जब गुरू ही ऐसा होगा तो चेले कैसे होंगे औऱ चेले के साथी कैसे होंगे।

नैशनल कॉन्फ्रेंस की आलोचना करते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘दो-तीन दिन पहले जो कुछ हुआ, वे और शर्मनाक है। नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता ने जो गलत बयान दिया, पूरे देश ने देखा। देश ने यह भी देखा कि कांग्रेस ने ऐसे लोगों से हाथ मिलाया है, क्या कांग्रेस का हाथ ऐसे लोगों के लिए है जो पाक के लिए जय-जयकार करें और कांग्रेस उन्हें कंधे पर बैठा ले। कश्मीरी पंडितों की समस्याओं और जम्मू-कश्मीर को आज हो रही दिक्कतों के लिए नैशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी और कांग्रेस जिम्मेदार है। इन सभी के लिए सत्ता और वंश बचाना जरूरी है और देश का हित इनके लिए मायने नहीं रखता।’

विपक्ष को निशाने पर लेते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘कांग्रेस के विचारकों और नीति-निर्धारकों का यही रवैया है, जिसने आतंक के पनाहगारों का हौसला बनाया है। इसी का अंजाम जम्मू-कश्मीर समेत पूरे देश को दशकों से भुगतना पड़ा है। यह वे लोग हैं जो देश के सामर्थ्य पर कभी भरोसा नहीं करते।’ पीएम ने कहा कि इनके पास बड़े फैसले लेने की हिम्मत नहीं है। लेकिन फिर भी यह कितनी भी मेहनत लगा दें चौकीदार इनके रास्ते पर खड़ा रहता था। आपने मुझे करीब से देखा है, ढाई दशक पहले लालचौक पर तिरंगा फहराते हुए मैंने जो कहा था आज भी वही विचारधारी लेकर चल रहा हूं। आतंक के साथी सीमापार हों या देश के भीतर वे सभी कान खोलकर सुन लें, भारत के हितों और सुरक्षा के विरूद्ध उठाया गया एक भी कदम उन्हें भारी पड़ेगा।

पीएम ने कहा कि लंबे समय से सीमा पर रहने वाले लोगों को आरक्षण देने की मांग लंबित थी। तमाम सरकारों ने इसे लंबित रखा लेकिन हमारी सरकार ने बीते महीने इस मांग को पूरा करते हुए तीन फीसदी आरक्षण की व्यवस्था की। गरीबों के लिए आरक्षण की मांग भी लंबे समय से थी लेकिन किसी ने संविधान संशोधन की हिम्मत नहीं की, लेकिन हमारी सरकार ने इसके लिए काम किया। आपने जो पिछला वोट दिया था उसका नतीजा आप देख रहे हैं, अब इस बार आपका वोट जम्मू-कश्मीर को नई ऊंचाई पर ले जाएगा। इसके लिए आप सभी को 11 अप्रैल को वोट देने जाना होगा। आपका एक वोट नए भारत की नीति और नेतृत्व को मजबूत करेगा।

आपको बता दें कि नरेंद्र मोदी ने गुरुवार से ही लोकसभा चुनाव के लिए अपने प्रचार अभियान की शुरुआत की है। गुरुवार को पीएम ने मेरठ और रुद्रपुर में भी सभाओं को संबोधित किया था, जिसके बाद वह जम्मू-कश्मीर के अखनूर पहुंचे थे। इस सभा के अंत में पीएम मोदी ने भारत माता की जय के साथ लोगों से मैं भी चौकीदार के नारे भी लगवाए और लोगों को सभा में आने के लिए धन्यवाद भी दिया।